कांग्रेस में प्रियंका गाँधी को पार्टी के अध्यक्ष की अटकलों के बीच राहुल के सबसे करीबी कहे जाने वाले आशीष कुलकर्णी ने पार्टी छोड़ दी है.देखा जाए तो राहुल गाँधी को यह बड़ा झटका साबित हो सकता है. कांग्रेस के अन्दर अब राहुल गाँधी से भरोसा उठता जा रहा है.

पहले भी कई नेता सामने तो नहीं लेकिन दबे हुए शब्दों में इस तरह की बात कह चुके हैं. कुलकर्णी ने राहुल गांधी को भेजे अपने इस्तीफे में इन अफवाहों के पीछे के इरादे पर सवाल उठाते हुए कहा कि पार्टी के ही कुछ ऐसे नेता ये अफवाहें उछाल रहे हैं, जो 2014 के चुनाव में कांग्रेस का पूरा ठीकरा राहुल गांधी पर थोपने की कोशिश में हैं.

आशीष कुलकर्णी ने अपने आप को कांग्रेस का ‘वार रूम’ कहे जाने वाले समन्वय केंद्र का सदस्य बताया है. यह वार रूम 2009 के बाद से सभी चुनावों के प्रबंधन और सभी प्रकार की नीतिओं पर नजर रखता है. साथ ही आशीष यह भी कहा है कि पार्टी में मेह्नत कि बहुत कमी है.

इसी के साथ उन्होंने लिखा है कि महाराष्ट्र, उतराखंड,असम और अरुणाचल जैसे राज्यों में पार्टी की बुरी हालत के लिए पार्टी के अन्दर अनिश्चिताओं को जिम्मेदार बताया है. आशीष ने यह तक बोल डाला कि पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को राहुल की क्षमता पर ज़रा भी भरोसा नहीं है.

इन सब बयानों के बीच कांग्रेस ने अपनी प्रतिक्रिया ज़ाहिर करते हुए पूछा है कि कौन है आशीष? वह नहीं जानते कि आशीष कुलकर्णी कौन है. कांग्रेस पार्टी के नेता अजय मकान ने पूछा है आखिर आशीष है कौन? अजय माकन ने आशीष कुलकर्णी के इस्तीफे में लिखे कांग्रेस समन्वय केंद्र पर ही सवाल खड़े करते कहा कि ऐसी किसी तरह की कोई कॉर्डिनेशन सेंटर नहीं है. उन्होंने उल्टा मीडिया पर सवाल दागते हुए कहा कि राहुल गाँधी के खिलाफ कोई कुछ भी कहता है तो आप चला देते हो.