इस वजह से भारत चीनी सीमा से एक कदम भी पीछे नहीं हट सकता

0
136
चीन और भारत में लगातार घमासान बना हुआ है. सिक्किम  के लिए चल रही तनातनी में चीन ने कभी  सपने  में भी नहीं  सोचा  होगा  कि भारत भूटान की मदद के लिए आगे आएगा. डोकलाम इलाके में चीनी सेना ने अतिक्रमण करने की बहुत कोशिश की पर भारतीय सेना ने चीनी सैनिकों को भूटान सरकार की मांग पर खदेड़ दिया. करीब एक महीने से दोनों देशो कि सेना आमने सामने है और रोज़ चीनी मीडिया की तरफ से नए बयान आ रहे है.
Image result for chinese army at bhutan border
चीनी मीडिया हमेशा से भारत और चीन के युद्ध में सन 1962 के युद्ध की याद दिलाता रहा है. वहीँ दूसरी और अपनी आर्थिक शक्तियों का हवाला देता रहता है. शी चिनफिंग की सरकार, चीनी मीडिया के जरिए भारत सरकार को चुनौती दे रही है. खबरों के मुताबिक सन 1950 में चीन ने तिब्बत पर अपना हक़ जमा लिया था और अब 2017 में भूटान को तिब्बत बनाने की कोशिश में है. भूटान तिब्बत के मुक़ाबले बहुत छोटा सा मुल्क है और कमज़ोर भी है. लेकिन भारत को तिब्बत से ज़्यादा भूटान पर चीन का कब्ज़ा ज़्यादा घातक हो सकता है.
तिब्बत की सीमा कश्मीर, उत्तराखंड, सिक्किम से लेकर अरुणाचल तक से मिलती है.
तिब्बत का क्षेत्रफल 12 लाख 20 हजार वर्ग किमी. है, तो वहीं भूटान का क्षेत्रफल कुल 38000 वर्ग किमी. है. बात जनसँख्या की करे तो तिब्बत की जनसंख्या 27 लाख 70 हजार है, और भूटान की जनसंख्या 7 लाख 50 हजार है. आपको बता दें की सन 1950 के बाद चीन ने 27 बार सिक्किम और अरुणाचल पर नज़र उठायी है. अगर चीन भूटान पर कब्ज़ा करने में सफल हो जाता है तो खतरा भारत के पूरे नॉर्थ ईस्ट के राज्यों पर आ जाएगा.
अगर बात करें डोकलाम के नक्श की तो दोकलाम भारत से चंद कदम ही दूर है अगर वे भारत के क्षेत्रफल में आता है तो उसको कोई दिक्कत नहीं होगी क्योंकि डोकलाम ऊंचाई पर है. चीनी फौज कभी चाहे तो वो राजमार्ग 31 से सिक्किम और बंगाल के रास्ते भारत में आराम से आ सकता है. ऐसे में नॉर्थ ईस्ट के सातों राज्यों पर संकट बन गया है.
भूटान पर है चीन की नजर
चीन ने डोकलाम में सड़क बनाना शुरू भी कर दिया है. भूटान सेना द्वारा विरोध जताने के बाद भी चीन बाज़ नहीं आ रहा है. इसके चलते भारतीय सैनिकों ने विरोध जताया तो चीनी सेना ने भारत की छोटी चौकियां नष्ट कर डाली. यह सब के  बाद साफ है कि भारत के डोकलाम से पीछे हटने पर चीन भूटान को दूसरा तिब्बत बना देगा.
चीन भारत को बार बार धमकी दे रहा है कि डोकलाम से भारत अपनी सेना वापस बुलाले. लेकिन अगर भारत ऐसा करता है तो चीन कि पकड़ और मजबूत हो जाएगी. चीन इस मसले पर पीछे हटने को तैयार नहीं है, वो लगातार डोकलाम पर अपना दावा जता रहा है. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने चीन से हटाने को कहा था, जिसे ड्रैगन ने फैंटेसी करार दिया. ऐसे में यह विवाद और बढ़ सकता है.